Upsarg (उपसर्ग) की परिभाषा, भेद और उदाहरण : Hindi Grammar

Upsarg : उपसर्ग को अंग्रेजी में Prefix कहते हैं। उपसर्ग दो शब्दों उप और सर्ग से मिलकर बना होता हैं। उप का अर्थ समीप या निकट होता हैं तथा सर्ग का अर्थ सृष्टी करना होता हैं।

upsargउपसर्ग की परिभाषा (Definition of Prefix)

उपसर्ग (Upsarg) उस अव्यय या शब्दांश को कहते हैं, जो किसी अर्थपूर्ण शब्द के पहले या प्रारम्भ में जुड़कर उस शब्द का अर्थ बदल देता हैं या एक विशेष अर्थ प्रकट कर देता हैं।

जैसे- आजीवन, अतिरिक्त, उपकार, प्रतिदिन में क्रमशः , अति, उप और प्रति  उपसर्ग हैं।

उपसर्गों का अपना स्वयं अस्तित्व नही होता फिर भी ये अन्य शब्दों के पहले जुड़कर, शब्दों के अर्थ में परिवर्तन कर देते हैं।

जैसे- हार एक शब्द हैं, इसका अर्थ पराजय होता हैं, लेकिन हार के पहले ‘प्र‘ उपसर्ग लगा देने पर नया शब्द ‘प्रहार‘ बन जाता हैं तथा ‘‘ उपसर्ग लगा देने पर नया शब्द ‘आहार‘ बन जाता हैं जिसका अर्थ क्रमशः मारना और भोजन होता हैं।

उपसर्ग के प्रकार (Types of Prefix)

उपसर्ग के कई भेद होते हैं लेकिन हिंदी व्याकरण में निम्नलिखित उपसर्गों का प्रयोग होता हो-

  1. हिंदी के उपसर्ग
  2. संश्कृत के उपसर्ग
  3. उर्दू के उपसर्ग
  4. अंग्रेजी के उपसर्ग

उपसर्गों की संख्या (Number of Prefix)

  1. हिंदी – 10
  2. संश्कृत – 22
  3. उर्दू – 12

हिन्दी के उपसर्ग (Prefix of Hindi)

उपसर्गअर्थउपसर्ग से मिलकर बने शब्द
आभावअमर, अटल, अचल, अजर, अथक, अचूक, अट्टू अथाह आदि।
अनबिनाअनमोल, अनपढ़, अनचाहा, अनजान, अनहोनी, अनाचार आदि।
अधआधाअधमरा, अधकचा, अधपका, अधखिला आदि।
अव, औनिषेध, हीनताअवतार, अवतरण, अवसर, अवगुण, औगुन, औघर, औघट, औसर, औसान, औतार आदि।
क, कुबुरा, हीनताकपूत, कचोट, कुरीति, कुचक्र, कुख्यात, कुसंगति, कुकर्म, कुचाल, कुढंग, कुरूप, कुपुत्र, कुमार्ग आदि।
स, सुसाथ, सुन्दरसपूत, सरस, सपरिवार, सबल, सजीव, सगुण, सुडौल, सुवचन, सुपात्र, सुजान, सुकाज आदि।
दुहीन, बुरादुगुना, दुबला, दुर्बल, दुकाल, दुर्जन, दुराहा आदि।
निरहित, निषेधनिकम्मा, निठल्ला, निडर, निहत्था, निहाल, निगोड़ा आदि।
बिनरहित, निषेधबिनबाप, बिनबोया, बिनदेखा, बिनपानी, बिनब्याहा, बिनबिका आदि।
भरठीक, पूराभरपेट, भरपूर, भरमार, भरदिन, भरसक आदि।

संश्कृत के उपसर्ग (Prefix of Sanskrit)

उपसर्गअर्थउपसर्ग से मिलकर बने शब्द
आभाव, नहीअमर, अनाथ, अदृश्य, अखंड, अजन्मा, आभाव, अबोध, अगोचर, अमूर्त आदि।
तक, सीमा, समेतआकाश, आगमन, आकर्षण, आक्रमण, आदान, आजीवन, आरोह, आमरण आदि।
अनआभाव, नहींअनेक, अनमोल, अनजान, अनावश्यक, अनादि, अनादर, अनाचार आदि।
अनुसमान, क्रम, पीछेअनुशासन, अनुवाद, अनुकरण, अनुज, अनुसरण, अनुभव आदि।
अवअनादर, पतन, बुराअवतार, अवगत, अवस्था, अवज्ञा, अवशेष, अवनति, अवरोहण आदि।
अपनीचे, बुराअपवाद, अपमान, अपराध, अपहरण, अपकार, अपव्यय, अपकीर्ति, अपभ्रंश आदि।
अतिअधिकअत्यधिक, अतिक्रमण, अतिरिक्त, अत्यंत, आत्याचार, अत्युतम, अत्युक्ति आदि।
अधिऊपर, श्रेष्ठअधिग्रण, अधिकरण, अध्यक्ष, अधिकार, अध्यादेश, अध्यात्म आदि।
अभिओर, सामने, निकटताअभ्यास, अभिमान, अभीष्ट, अभियोग, अभियुक्त, अभिभावक अभ्युदय आदि।
उतऊपर, उत्कर्षउत्साह, उत्थान, उत्तर, उत्पन्न, उत्तम, उत्पाद, उत्पत्ति, आदि।
उदऊपरउध्दार, उद्देश्य, उद्योग, उद्धृत आदि।
उपसहायक, निकटताउपदेश, उपमंत्री, उपकार, उपस्थित, उपयोग, उपलक्ष्य, उपासना आदि।
ततजैसा, उसकेतत्काल, तत्पर, तत्पश्चात, तत्सम, तदनुसार आदि।
दुरकठिन, बुरादुरूपयोग, दुर्बल, दुर्गम, दुर्लभ, दुराचार, दुर्भाग्य, दुर्जन आदि।
दुसकठिन, बुरादुस्साहस, दुष्कर्म, दुष्ट, दुस्चारित आदि।
निभीतर, नीचे, अतिरिक्तनिबंध, नियोजन, निदान, निवारण, नियुक्त, निरूपण आदि।
निरनिषेध, रहितनिर्भय, नीरस, निराश, निर्वाह, निर्यात, निर्दोष, निराकरण, निर्जीव आदि।
निसनिषेधनिष्फल, निश्चित, निष्काम, निस्सन्देह, निष्कर्म, निश्चल,  नि:शेष आदि।
प्रऊपर, आगे, अधिकप्रयोग, प्रगति, प्रकाश, प्रयास, प्रलय, प्रमाण, प्रसिद्ध, प्रस्थान आदि।
पराउल्टा, नशापराक्रम, पराजय, परामर्श, पराकाष्ठ, पराभूत आदि।
परिपूर्ण, चारों ओरपर्याप्त, परिक्रमा, परिणाम, परिधि, परिवर्तन, परिचय आदि।
विअलग, हीनता, विशेषताविज्ञान, विनाश, विशेष, विधवा, विकास, विभिन्न आदि।
साथसफल, सपूत, सपरिवार, सहित, सक्रिय, सरस आदि।
समपूर्णता, संयोग, समीपतासंस्कार, सम्मान, संयोग, संतोष, संकल्प, संस्कृत, संग्रह, संपत्ति, सम्मेलन, संरक्षण आदि।
सुअधिक, आसान, अच्छासुकन्या, सुपुत्र, सुगम, सुकुमार, सुकर्म आदि।
स्वअपना, निजीस्वराज, स्वदेश, स्वार्थ, स्वतंत्र आदि।
अंतरभीतरअन्तर्राष्ट्रीय, अंतरात्मा, अन्तरंग, अंतर्यामी, अंतर्गत आदि।
अधःनीचेअधोपतन, अधोभाग, अधोलिखित आदि।
अलमबहुतअलंकर, अलंकृत, अलंकरण आदि।
चिरदीर्घकालीनचिरायु, चिरजीवी, चिरस्थाई, चिरवियोग आदि।
तिरनिषेधतिरस्कार, तिरोभाव, तिरस्कृत आदि।
पुनरफिरपुनर्जन्म, पुनर्मिलन, पुनर्जागरण, पुनर्विवाह आदि।
पुरससामनेपुरस्कार, पुरस्कृत आदि।
प्रादुरप्रकटप्रादुभूर्त, प्रादुर्भाव आदि।
प्राग, प्राकपहलेप्रागैतिहासिक, प्राग्वैदिक, प्राक्कलन आदि।
बहिसवाहरबहिष्कार, बहिष्कृत आदि।
बहिरबहारबहिर्जगत, बहिर्गमन, बहिर्मुख, बहिरंग आदि।
सतसच्चासज्जन, सत्याग्रह, सत्पुरुष, सत्संग सत्कर्म आदि।
  • इसे भी पढ़े-
  1. Hindi Grammar – हिंदी व्याकरण
  2. Varn Vichar – वर्ण विचार | हिंदी व्याकरण
  3. कंप्यूटर क्या हैं हिंदी में जानकारी? Computer Notes Hindi
You might also like